बायो बबल बचायेगा सभी खिलाडियों को कोरोना वायरस के संक्रमण से

बायो बबल एक प्राकर्तिक वातावरण है, जो कोरोना से बचने के लिए इस्तेमाल हो रहा है , बायो बबल एक निश्चित क्षेत्र हैं जहाँ रहने वाले लोगों को कोरोना के संक्रमण से मुक्त रखा जा सकेगा।

IPL के लिए बायो बबल (bio bubble) का निर्माण किया गया है, सभी खिलाडी 24 घंटे इसी बबल के अन्दर रहते हैं तथा किसी भी व्यक्ति को इससे बाहर जाने की अनुमाति नहीं होती है ।

क्या है बायो बबल (bio bubble)

एक निश्चित क्षेत्र जहाँ पहले से निर्धारित व्यक्ति ही रह सकेंगें, इससे इसके अन्दर रहना वाला प्रत्येक व्यक्ति संक्रमण से मुक्त ऱखा जा सकेगा।

बबल में प्रवेश के नियम

बायो बबल में प्रवेश से पहले प्रत्येक सपोर्ट स्टाफ तथा खिलाडियों का तीन बार टेस्ट किया गया तथा दुबई पहुँचने पर उनको एक हफ्ते के लिए क्वारंटाइन में ऱखा गया , कवार्ंटाइन के दौरान भी उनका दो बार परीक्षण किया गया तथा रिपोर्ट नगेटिव आने पर ही उनको बबल के भीतर प्रवेश दिया गया , एक बार प्रवेश हो जाने पर किसी भी व्यक्ति को बबल के बाहर जाने की अनुमति नहीं होगी , एक बार किसी कारणवश कोई वयक्ति अगर किसी बाहर के व्यक्ति के संपर्क में आता है तो उसे दुबारा से क्वारंटाइन तथा चेक के नियम पालन करने पर ही प्रवेश मिल सकेगा.

इस प्रकार बायो बबल के भीतर रहने वाला प्रत्येक व्यक्ति किसी भी वाह्रा संक्रमण से मुक्त रह सकेगा।

खिलाडियों को मैदान तथा होटल में भी बायो बबल के नियमों का पालन करना होगा तथा स्टाफ को कोई भी व्यक्ति बाहर के व्यक्ति से नहीं मिल सकेगा चाहे वो उसके मित्र हों या परिवार के सद्स्य।

द्रविड उठा चुके हैं सवाल

राहुल द्रविड वायो बबल (bio bubble) की व्यवहारिकता पर सवाल उठा चुके हैं , उनका कहना है कि यदि कोई खिलाडी टूर्नामेंट के बीच में पाजिटिव पाया जाता है तो क्या होगा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!