शुद्ध वर्तनी

कवयित्री, विदुषी, क्लेश, उज्ज्वल, हिरण्यकशिपु, आनुषंगिक, परीक्षा, अनुगृहीत, नरक, टिप्पणी, विरहिणी, प्रज्वलित, समुज्ज्वल, पारलौकिक, निश्चेष्ट, दुर्धर्ष…

लोकोक्ति एवं मुहावरे

देशज- विदेशज शब्द

विदेशी शब्द हिन्दी में विदेशी भाषाओं , विशेषकर फारसी , अरबी तुर्की , अंग्रेजी , पुर्तगाली,…

तद्भव एवं तत्सम, देशज, विदेशज

बनावट के आधार पर रूढ , यौगिक , योग रूढ उत्पत्ति के आधार पर तत्सम, तत्सम,…

छन्द

छंद शब्द में असन् प्रत्यय लगने से बना है। छंद धातु का अर्थ है आह्वलादित करना…

अलंकार

अलंकार में ‘ अलम्‘ और ‘कार‘ दो शब्द हैं। ‘अलम्‘ का अर्थ है भूषण या सजावट,…

रस अलंकार तथा छंद

रस का शाब्दिक अर्थ है आनंद। काव्य को पढने या सुनने से जिस आनंदी की अनुभूति…

विशेषण

जो शब्द संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताते हैं, ऐसे शब्दों को विशेषण कहते हैं। जिसकी…

संज्ञा

संज्ञा वह विकारी शब्द होता है जिससे किसी विशेष वस्तु, भाव, जीव तथा स्थान का बोध…

शब्द विचार , रचना के भेद, अर्थ वाक्य रचना

वर्णों के मेल से बने स्वतंत्र एवं सार्थक ध्वनि समूह को शब्द करते हैं। डा भोलानाथ…

वर्णमाला ध्वनि विचार विराम चिन्ह

संरचना की दृष्टि से वर्ण भाषा की लघुत्तम ईकाई हैे. वर्ण उस मूल ध्वनि को कहते…

भाषा एक परिचय तथा व्याकरण

भाषा शब्द की व्युत्पत्ति संस्क्रत की भाष धातु से हुई है । इसका अर्थ बोलना या…

error: Content is protected !!