हिंदी व्याकरण

भाषा शब्द की व्युत्पत्ति संस्कृत के ‘भाष्य’ धातु से हुई है । इसका अर्थ बोलना या कहना होता है। भाषा अभिव्यक्ति का माध्यम है ।

Read Detail

वर्ण के उच्चारण समूह को वर्णमाला कहते हैं, वर्ण उस मूल ध्वनि को कहते हैं जिसका खंड संभव नहीं है।

Read Detail

वर्णों के में से बने स्वतंत्र एवं सार्थक ध्वनि समूह को शब्द कहते हैं। अर्थ के स्तर पर भाषा की सबसे छोटी ईकाई शब्द हैं। ncert hindi grammar

Read Detail

किसी वस्तु स्थान , प्राणी, अवस्था, गुण, या भाव के नाम का बोध करवाने वाले शब्दों का संज्ञा कहते हैं।

Read in Detail

सर्वनाम उस विकारी शब्द को कहते हैं ,जो पूर्वापर सम्बन्ध से किसी संज्ञा के स्थान पर बोला जाता है।

Read in Detail

जो संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताते हैं ऐसे शब्दों को विशेषण कहते हैं। Hindi basic grammar

Read in Detail

संधि का शाब्दिक अर्थ है -‘मेल’ । जो निकटवर्ती वर्णों के मेल से जो विकार उत्पन्न होता है उसे संधि कहते हैं। Read Details

दो या दो से अधिक शब्दों से मिलकर बने हुे, एक नवीन एवं सार्थक शब्द को समास कहते हैं।

Read Details

जिस शब्द अथवा शब्द समूह के द्वारा किसी कार्य के होने अथवा करने का बोध हो , वह क्रिया कहलाता है।hindi for ro aro, Hindi basic grammar

ऐसे शब्द जिनके अनेक अर्थ होते हैं उन्हें अनेकार्थी शब्द कहते हैं।

Read Detail

विलोम शब्द का अर्थ है- उल्टा। शब्द का विलोम उसी व्याकरणिक कोटि का होगा जिसका वह मूल शब्द है।

Read Detail

समान अर्थ रखने वाले शब्दों को पर्यायवाची शब्द कहा जाता है। हिंदी बेसिक ग्रामर

Read in Detail.

लोक मानस की चिरसंचित अनुभूतियाँ हैं। उनके प्रयोग से भाषा की सजीवता की व्रद्धि होती है।

Read More

परिभाषा -जो शब्द संस्क्रत वाड्मय में उपलब्ध हैं, वे परंपरागत तत्सम शब्द कहलाते हैं। ncert hindi grammar

Read Details

देशी शब्द के अन्तर्गत में शब्द हैं जो साहित्यिक भाषाओं से परे सामान्य जनता के बीच युगों से व्यवह्रत हैं ।

Read More

रस का शाब्दिक अर्थ होता है आनंद। काव्य को पढने या सुनने से जिस आनंद की अनुभूति होती है, उसे रस कहा जाता है।

Read Details

परिभाषा- छोटी-छोटी सार्थक ध्वनियों के प्रवाहपूर्ण सामंजस्य का नाम छंद है।

Read in Detail

अलम्+कार . अलम् का अर्थ है भूषण अर्थात काव्य की शोभा जो बढाए उसे अलंकार कहते हैं।

Read in Detail

हिन्दी में शुद्ध वर्तनी का चयन अत्यन्त महत्वपूर्ण है , शुद्ध उच्चारण के अत्यन्त आवश्यक है । Read More

Hindi for Ctet paper-1, 2, Hindi for stet paper-1, 2 short notes pdf. Reet, uptet , B. ed ncert class 10,12,8,9. Hindi for Ctet paper-1, 2 . व्याकरण की परिभाषा, रस, छन्द ,अलंकार, हिन्दी ग्रामर hindi basic grammar for ncert for ctet , stet, uptet, reet, upsssc, R.O. /A.RO. hindi for ro aro , हिंदी ग्रामर क्लास 10, हिंदी व्याकरण अभ्यास ,हिन्दी व्याकरण क्लास 8,ncert hindi grammar

हिंदी व्याकरण में क्या- क्या आता है

हिंदी व्याकरण के अंतर्गत , संज्ञा , सर्वनाम, शब्द, एकवचन, बहुवचन, पर्यायवाची, संधि , समास, भाषा के रूप इत्यादि आते हैं

हिंदी व्याकरण किसकी रचना है

हिंदी व्याकरण की रचना श्रीकामता प्रसाद गुरु हैं।

व्याकरण किसे कहते हैं तथा व्याकरण के कितने भेद होते हैं

भाषा के शुद्ध उच्चारण अथवा लेखन में व्याकरण का अति महत्वपूर्ण योगदान होता है ।

error: Content is protected !!