कमर दर्द का कारण तथा आयुर्वेदिक दवा

पिछले महीनों से कमर दर्द से पीड़ित रोगियों की संख्या दिन पर दिन बढ़ती जा रही है तथा कुछ रोगियों ने कमर दर्द निवारण हेतु आयुर्वेदिक चिकित्सा पर लेख प्रकाशित करने का अनुरोध किया, योग प्राकृतिक चिकित्सा और स्वस्थ जीवन जीवन शैली की भूमिका संबंधी एक लेख भी प्रकाशित करना चाहिए, हमें विश्वास है कि लेख कमर दर्द के निवारण हेतु लाभप्रद होगा।

आज के नए दौर में हम ये पाएंगे कि कमर दर्द की समस्या  केवल बुजुर्गों में ही नहीं युवा पीढ़ी में भी देखी जा सकती है अगर हम किसी रोग विशेष को हटा दें तो पायेंगे
अत्यधिक संसाधनों से पूर्व जीवनशैली शारीरिक श्रम एवं व्यायाम का अभाव अनुचित खानपन कमजोर पाचन तंत्र आदि मुख्य कारण हैं।

वर्तमान में कमर दर्द से पीड़ित रोगियों की संख्या बहुत ही कम होगी, संपूर्ण शरीर को स्वस्थ रखने के लिए रीड की हड्डी को स्वस्थ रखना बहुत ही आवश्यक है, कमर दर्द को पैदा करने वाले कारण-

बहुत अधिक शारीरिक वजन

आज की जीवनशैली और खानपान से मोटापे की समस्या बहुतायत देखी जा सकती है, मोटापा  जहां शरीर की मांसपेशियों और लिगामेंट को कमजोर करते हैं    शरीर की हड्डियों पर भी जोर पड़ता है  जिससे जोड़  जैसे कमर तथा घुटनों को मोड़ने  में अधिक दिक्कत होती है।

शारीरिक गतिविधि में कमी

sharirik gatividhi me kami k karan kamar dardकमर दर्द के लक्षण में शारीरिक गतिविधि में कमी भी है, आजकल मनुष्य शारीरिक रूप से कम तथा मानसिक रूप से अधिक सक्रिय रहता है परिणाम स्वरूप शरीर की मांसपेशियां एवं ligament शिथिल एवं कमजोर होने लगती है

अधिक शुगर का सेवन

ज्यादातर लोग अत्यधिक शक्कर का प्रयोग करते हैं, अधिक सेवन से गुर्दे कैल्शियम मैग्नीशियम और पोटेशियम मूत्र में उत्सर्जित करने लगते हैं जिससे रक्त में इनका स्तर गिरने लगता है इस मिनरल्स की खून में आपूर्ति के लिए शरीर में हड्डियों और पेशियों से लेने लगता है,  फलस्वरूप हड्डियां कमजोर हो जाती हैं और पेशियों का लचीलापन कम होने लगता है धीरे धीरे कमर दर्द से शिकायत स्थाई में समस्या बन जाती हैं। कमरदर्द का कारण (kamar dard ka karan)बहुत अधिक शुगर का सेवन करना भी है।

पानी का कम मात्रा में सेवन करना

रीढ़ की पेशियों स्नायु और कोशिकाओं के बीच पाए जाने वाली गद्दियो में जल की कमी से कमर दर्द की शिकायत उत्पन्न हो जाती है ,  इस बात का ध्यान रखें कि पर्याप्त मात्रा में जल का सेवन करें, कमर दर्द के उपाय पीनी पीने से काफी लाभ मिलता है ।

drink water pain in waist , back pain
image source- freepik.com

बहुत अधिक काम करना

बहुत ज्यादा वजन उठाने से जोड़ों पर बहुत अधिक दबाव पड़ता है, जिससे वह अपने स्थान से खिसक जाते हैं अथवा क्षतिग्रस्त हो जाते हैं इससे भी कमर दर्द की शिकायत हो जाती है तो आपको अपने शरीक शारीरिक बल के अनुसार श्रम करना चाहिए। बहुत अधिक काम भी कमर दर्द का एक कारण है ( kamar dard ka karan)

अधिक समय एक ही पोजीशन बैठना

बहुत ज्यादा देर तक एक ही पोजीशन में बैठे रहने से कमर दर्द की शिकायत उत्पन्न हो जाती है, जैसे ज्यादा देर कुर्सी पर बैठना , गाड़ी चलाना इत्यादि। बहुत अधिक देर बैठना भी कमर दर्द का एक कारण है।

कमर दर्द से मुक्ति के उपाय

उचित आहार-विहार स्वस्थ जीवन शैली को अपनाकर हम कमर दर्द की समस्या से निजात पा सकते हैं, कमर दर्द उपाय में उचित आहार विहार का सेवन तथा सम्पूर्ण पोषण करना होता है ।

सक्रिय दिनचर्या को अपनाकर

यदि मांसपेशियों को लचीला और शक्तिशाली बनाना है तो  हड्डियों के कार्य भार को कम करना है तो अपनी जीवनशैली में सुबह टहलना सीढ़ी चढ़ना आदि क्रियाओं को शामिल करना होगा। कमर दर्द से निजात पाने के उपाय में सक्रिय दिनचर्या अहम भूमिका निभाती है ।

संतुलित आहार का सेवन करें

भोजन ऐसा होना चाहिए कि वह पाचन शैली को बलवान बनाएं तथा शरीर का समुचित विकास भी करें, आहार जितना प्राकृतिक रूप में ले इतनी जल्दी पच जाता है तथा शरीर का पोषण भी करता है। ऐसे फल सब्जियां तथा अंकुरित अनाजों का अधिक से अधिक मात्रा में अपने आहार में शामिल करना चाहिए इससे पाचन प्रणाली शक्तिशाली एवं मजबूत बनती हैं तथा शरीर में वायु इत्यादि का प्रकोप नहीं होता है।

सब्जियों का सूप फलों व सब्जियों का सलाद आदि का सेवन करें ताकि शरीर की पर्याप्त मात्रा में विटामिन मिनरल्स तथा रेशा प्राप्त होता है इसमें शरीर गैस कब्ज और अम्लता से मुक्त रहेगा प्रातः काल में विटामिन सी के प्रयोग करने से शरीर कब्ज से मुक्त रहता है, क्योंकि हड्डियों के मुख्य प्रोटीन कोलेजन के निर्माण के लिए विटामिन सी अत्यावश्यक होता है।

आहार में कैल्शियम युक्त पदार्थों का समावेश होना चाहिए कैल्शियम हड्डियों में पेशियों दोनों की ही मजबूती के लिए आवश्यक होता है रागी दूध दही पनीर  चीज मक्खन और हरी पत्तेदार सब्जियों में कैल्शियम प्रचुर मात्रा में पाया जाता है,  मांसपेशियों को शक्ति प्रदान करने के लिए अपने आहार में बादाम मूंगफली से बना  केला गाजर पालक मेथी टमाटर कद्दू के बीज आदि को शामिल करना चाहिए,

तीव्र कमर दर्द की प्राकृतिक चिकित्सा

कमर की ठंडी गरम सिकाई करने से तीव्र कमर दर्द में लाभ मिलता है
योग के माध्यम से कमर दर्द में आराम पाया जा सकता है परंतु बहुत अधिक जोर डालना ठीक नहीं जितना  आसानी से हो उतना ही जोर लगाना चाहिए ।

कमर दर्द की आहारीय चिकित्सा

अपने आहार में नियमित रूप से गीले नारियल की गिरी का सेवन करें खजूर का सेवन करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!