रस अलंकार तथा छंद

रस का शाब्दिक अर्थ है आनंद। काव्य को पढने या सुनने से जिस आनंदी की अनुभूति होती है उसे रस कहा जाता है । भरत मुनि के अनुसार

विभाव, अनुभाव तथा व्यभिचारी भाव के संयोग से रस की निष्पत्ति होती है ।

भरत मुनि ने रस की उत्पत्ति के लिए नाना भावों को उत्पन्न होना उत्तरदायी बताया है। जिसका अर्थ है कि विभाव , अनुभाव तथा संचारी भाव स्थायी भाव के निकट आकर अनुकूलता गृहण करते हैं।

विभाव

जो व्यक्ति पदार्थ या वाहृा विकार किसी अन्य व्यक्ति में भावोद्रेक उत्पन्न करता है , उन कारणों को विभाव कहा जाता है। विभाव दो प्रकार के होते हैं – आलम्बन तथा उद्दीपन, सूर की गोपियों का आकर्षण कृष्ण के प्रति है । यहाँ कृष्ण आलम्बन विभाव है। कृष्ण मुरली बजाकर आकर्षित करते हैं। मुरली उद्दीपन विभाव के रूप में हैं।

अनुभाव

आलम्बन और उद्दीपन विभावों के कारण उत्पन्न होने वाले भावों को प्रकाशित करने वाली प्रक्रिया ‘अनुभाव‘ कहलाती है। गोपियों के आकर्षण के साथ संकेत करना , लज्जित होना , कटाक्ष करना आदि ‘अनुभाव’ की श्रेणी में आता है ।

व्यभिचारी(संचारी भाव)

व्यभिचारी अथवा संचारी भाव स्थायी भावों के लिए सहायक होते हैं। आचार्य भरत ने संचारी भाव में

  1. देशकाल तथा अवस्था
  2. उत्तम , मध्यम तथा अधम प्रकृति के लोग
  3. वातावरण के प्रभाव तथा
  4. स्त्री पुरुष के स्वभाव में भेद से जो भाव उत्पन्न होते हैं वे संचारी भाव हैं। स्थायी भावों के साथ संचारी भाव भी सामने आते हैं ; जैसे- गर्व, निर्वेद , शंका, आलस्य, ग्लानि, मद, दीनता आदि संचारी भाव हैं ; संचारी भावों की संख्या 33 बतायी गयी है।

स्थायी भाव

विकारो मानसो भाव ‘ अर्थात् मन का विकार ही भाव है। आचार्य भरत ने ‘नाट्यशास्त्र‘ में भावों की संख्या 49 बतायी है । जिसमें 33 संचारी भाव, 8 सात्विक तथा 8 स्थायीभाव हैं। भरत के अनुसार आठ स्थायी भाव हैं- रति , हृास, शोक, क्रोध, उत्साह, भय, जुगुप्सा तथा विस्मय

भरत के बाद आचार्यों ने भक्ति और वात्सल्य को भी स्थायी भाव मान लिया । आचार्य रामचन्द्र शुक्ल के अनुसार ‘ भाव‘ का जहाँ ‘स्थायित्व’ हो उसे ‘स्थायी भाव ‘ माना जाता है ।

प्रत्येक स्थायी भाव से एक रस की निष्पत्ति होती है । भाव के आधार पर ही रसों की संख्या 9 बतायी गयी है । अभिनव गुप्त तथा मम्मट ने भी नौ रस माने हैं। ये रस हैं – श्रृंगार , भक्ति, करुण , रौद्र, वीर, भयानक, वीभत्स , अद्भुत तथा शान्त। आगे आचार्यों ने वात्सल्य को एक अन्य रस के रुप में मान्यता दी। प्रत्येक रस की निष्पत्ति में अनुभाव, विभाव तथा संचारी भावों का संयोग भिन्न प्रकार से होता है।

शान्त रस का स्थायी भाव है
क. वैराग्य ख. क्षमा ग. दया घ. निर्वेद

निर्वेद

किस रस का स्थायी भाव रति है
(क.) भक्ति रस ( ख.) श्रृंगार रस (ग.) दोनों का (घ.) दोनों का नहीं

श्रृंगार रस

हिन्दी काव्य-रसों की कुल संख्या है
क. ग्यारह ख. दस ग. नौ घ. आठ

नौ

‘यशोदा हरि पालनैं झुलावें हलरावैं दुलराय मल्हावैं । जो सोई कछु गावैं ।। ‘ इस अवतरण में कौन सा रस है ?
क. ऋंगार ख. वात्सल्य रस ग. शांत रस घ. करूण रस

वात्सल्य रस

उत्साह स्थायी भाव से किस रस की निष्पत्ति होती है
क. शांत रस ख. भयानक रस ग. रौद्र रस घ. वीर रस

वीर रस

नभ में झपटत बाज लखि , भूल्यो सकल प्रपंच ।
कपति तनु व्याकुल नयन , लावक हिल्यों न रंच ।।
क. रौद्र रस ख. वीभत्स रस ग. भयानक रस घ. वीर रस

उत्तर – वीभत्स रस

‘निशिचर हीन करहुँ महि
भुज उठाय पन कीन्ह ।
सकल मुनिन्ह के आश्रमन
जाइ जाइ सुख दीन्ह ‘ उपर्युक्त उद्र्रण में किस रस की निष्पित्ति हुई है ?

क. करुण रस ख. वीर रस ग. रौद्र रस घ. भयानक रस
उत्तर – वीर रस

गुरु गोविन्द तो एक है , दूजा यह आकार ।
आपा मेटि जीवति मरै, तो पावै करतार ।।
उपयुक्त दोहे में किस रस का परिपाक हुआ है ?

उत्तर – शांत रस

रौद्र रस का स्थायी भाव है
क. क्रोध रस ख. विस्मय रस ग. शोक रस घ. भय रस

उत्तर – क्रोध रस

शोक किस रस का स्थायी भाव है
क. शांत रस ख. करुण रस ग. हास्य रस घ.वीर रस

उत्तर – करूण रस

किस रस को रसराज कहा जाता है
श्रृंगार रस ख. वीर रस ग. हास्य रस घ. उपरोक्त में से कोई नहीं

श्रृंगार रस

अब लौ नसानी अब न नसैहों में कौन सा रस है ?
क. शांत रस ख. करुण रस ग. भक्ति रस घ. अद्भुत रस

उत्तर – शांत रस

‘ कंकण किंकिणि नुपुर सुनि ।
कहत लखन सन राम ह्रदय गुनि।।
मानहु मदन दुन्दुभी दीन्ही
मनसा बिस्व विजय कहँ कीन्हीं।
तात जनकतनया यह सोई
धनुष जग्य जेहि कारन होई
इन पंक्तियाों में ‘ जनकतनया ‘ है-
क. अनुभाव ख. आश्रय ग. विषय घ. उद्दीपन

उत्तर – ग

स्थायी भावों की कुल संख्या है
क. 9 ख. 10 ग. 11 घ. 12

उत्तर – 9

शांत रस का स्थायी भाव क्या है
जुगुप्सा रस ख. क्रोध रस ग. शोक रस घ . निर्वेद रस

उत्तर- निर्वेदे रस

अद्भुत रस का स्थायी भाव क्या है
क. रति ख. निर्वेद ग. अद्भुत रस घ. विस्मय


उत्तर – विस्मय

किलक अरे मैं नेह निहारूँ।
इन दाँतों पर मोती वारूँ । इन पंक्तियों में कौन -सा रस है
क. वीर रस ख. शांत रस ग. वात्सल्य रस घ. हास रस

उत्तर – वात्सल्य रस

सर्वश्रेष्ठ रस किसे माना जाता है?
रौद्र रस ख. श्रृंगार रस ग. करुण रस घ. वीर रस

उत्तर रस – श्रृंगार रस

कवि बिहारी मुख्यतः किस रस के कवि हैं
क. करुण रस ख. भक्ति रस ग. श्रृंगार रस घ. वीर रस

उत्तर- श्रृंगार रस

मेरे तो गिरिधर गोपाल दसरो न कोई ।
जाके सिर मोर मुकुट मेरो पति सोई।। इन पंक्तियों में कौन सा रस है

उत्तर- श्रृंगार रस

शोभित कर नवनीत लिए
घुटरूनि चलत रेनु तन मण्डित
मुख दधि लेप किए ।
इन पंक्तियों में कौन- सा रस है
क. श्रृंगार रस ख. हास्य रस ग. करुण रस घ. वात्सल्य रस

उत्तर – श्रृंगार रस

रसोउत्पत्ति में आश्रय की चेष्टाएं क्या कही जाती हैं?
क. विभाव ख. आलम्बन ग. अनुभाव घ. उद्दीपन

उत्तर – अनुभाव

‘ट’ ‘ठ’ ‘ड’ ‘ढ’ वर्णों के प्रयोग का सम्बन्ध काव्य के किस गुण है
क. माधुर्य ख. ओज ग. प्रसाद घ. इनमें से कोई नहीं

उत्तर – ओज

माधुर्य गुण का किस रस में प्रयोग होता है
क. शांत रस ख. श्रृंगार रस ग. भयानक रस घ. रौद्र रस

उत्तर – श्रृंगार रस

प्रिय पति वह मेरा प्राणप्यारा है ?
दुःख जल निधि डूबी का सहारा कहाँ है ?
इन पंक्तियों में कौन सा स्थायी भाव है?

क. विस्मय ख. रति ग. शोक घ. क्रोध
उत्तर – शोक

ऊधो मोहि ब्रज बिसरत नाहीं ।
हंससुता की सुन्दर करारी और द्रुमन की छाहीं । इन पंक्तियों में कौन सा रस है
क. श्रृंगार रस ख. हास्य रस ग शांत रस घ. करुण रस

उत्तर – श्रृंगार रस

हिन्दी साहित्य का नौवां रस कौन सा है
क. भक्ति रस ख. वात्सल्य रस ग . शांत रस घ. करुण रस

उत्तर रस – शांत रस

उस काल मारे क्रोध के , तन काँपने उसका लगा ।
मानो हवा के जोर से , सोता हुआ सागर जगा।
प्रस्तुत पंक्तियों में कौन सा रस है
क. वीर रस ख. रौद्र रस ग. अद्भुत रस घ. करुण रस

उत्तर – रौद्र रस

वाक्यं रसात्मकं वाक्यं किसका कथन है
क. विश्वनाथ ख. राजशेखर ग. श्री हर्ष घ. भास

उत्तर – विश्वनाथ

मन की उतप्त वेदना , मन ही मन में बहती थी।
चुप रहकर अन्तर्मन में , कुछ मौन व्यथा कहती थी।।
दुर्गम पथ पर चलने का वो
संबल छूट गया था ।
अविचल , अविकल वह प्राणी,
भीतर से टूट गया था ।
उपयुक्त काव्य पंक्तियों में कौन सा रस अभिव्यक्त हो रहा है
क. शांत रस ख. वियोग श्रृंगार रस ग. करुण रस घ. शांत रस

उत्तर – करूण रस

संचारी भावों की संख्या है
क. 9 ख. 33 ग. 16 घ. 99

उत्तर – 33

भरतमुनि के रससूत्र में निम्नलिखित में से किसका उल्लेख नहीं है
क. स्थायी भाव ख. शांत ग. अनुभाव घ. व्यभिचारी भाव

उत्तर – स्थायी भाव

भरतमुनि के अनुसार रसों की संख्या है
क. 8 ख. 9 ग. 11 घ. 10

उत्तर- 8

किस रस का स्थायी भाव निर्वेद है
क. भक्ति रस ख. शान्त रस ग. वात्सल्य रस घ. श्रृंगार रस

उत्तर — शान्त रस

भरत के ‘ रससूत्र ‘ में निम्नलिखित में से किसका उल्लेख नहीं है
क. विभाव ख. अनुभाव ग. स्थायी भाव घ. संचारी भाव

उत्तर – स्थायी भाव

वीभत्स रस का स्थाय़ी भाव है
क. भय ख. निर्वेद ग. जुगुप्सा घ. घृणा

उत्तर – जुगुप्सा

केशव कहि न जाइ का कहिये । देखत तव रचना विचित्र अति समुझि मनहिं मन रहिये । में है
क. रौद्र रस ख. शान्त रस ग. भयानक रस घ. अद्भुत रस

उत्तर- अद्भुत रस

” जहँ-तहँ मज्जा माँस रचिर लखि परत बगारे । जित – जित छिटके हाडं , सेतु कहुँ , कहुँ रतनारे ।। ” इस अवतरण में है ।
क. वीभत्स रस ख. अद्भुत रस ग. भयानक रस घ. हास्य रस

उत्तर – वीभत्स रस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!